तेरी आदत / TERI AADAT LYRICS IN HINDI | ABHI DUTT

[ad_1]

Teri Aadat Lyrics in Hindi
Advertisement

तू दूर हुआ है जबसे
मन बावरा क्यूँ तरसे
राहें अगर ये जुदा थी
क्यूँ साथ था एक उमर से

तेरी आदत जो लगी है
उसे कैसे मैं भुलाऊँ
ये कहानी मेरे दर्द की
किसको जाके सुनाऊँ

तू वजह है हर वजह की
बेवजह हुआ मैं अब से
तू वजह है हर वजह की
बेवजह हुआ मैं अब से

(संगीत)

तेरी तड़प में वक़्त का क़तरा
लगता है दरिया क्यूँ मुझे
शर्त बता दे या फ़िर सज़ा दे
है क्या रज़ा बयाँ कर मुझे

कैसे जुदा हो जाऊं
देखा तुझे है कुर्बत से
राहें अगर ये जुदा थी
क्यूँ साथ था एक उमर से

तेरी आदत जो लगी है
उसे कैसे मैं भुलाऊँ
ये कहानी मेरे दर्द की
किसको जाके सुनाऊँ

तू वजह है हर वजह की
बेवजह हुआ मैं अब से
तू वजह है हर वजह की
बेवजह हुआ मैं अब से

तेरी आदत जो लगी है
उसे कैसे मैं भुलाऊँ
ये कहानी मेरे दर्द की
किसको जाके सुनाऊँ

[ad_2]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here