होली बिरज मा HOLI BIRAJ MA LYRICS IN HINDI | Jubin Nautiyal

[ad_1]

Holi Biraj Ma Lyrics in Hindi

होली है..
होली है..

प्रेम के सारे मंतर रट के
तेरी खोज में दर-दर भटके
खोल दे राधा पट घूँघट के
सा रा रा

लोग बताएं जमुना तट के
रूप है तेरा सबसे हट के
ज्यों देखे वो रास्ता भटके
सा रा रा

सारा रा रा रा रा होली बिरज मा
तुझसे है रंगोली बिरज मा
तू मेरी हमजोली बिरज मा
तुझसे है रंगोली बिरज मा

सारा रा रा रा रा होली बिरज मा
तुझसे है रंगोली बिरज मा
तू मेरी हमजोली बिरज मा
तुझसे है रंगोली बिरज मा

(संगीत)

होली है..
होली है..

शाम-ओ-सेहर बस तेरी बतियाँ
तेरे बिन बे-स्वादी रतियाँ
आजा रे आ भी जा ये मन तरसे
होली है

प्रेम के सारे मंतर रट के
तेरी खोज में दर-दर भटके
खोल दे राधा पट घूँघट के
सा रा रा

लोग बताएं जमुना तट के
रूप है तेरा सबसे हट के
ज्यों देखे वो रास्ता भटके
सा रा रा

सारा रा रा रा रा होली बिरज मा
तुझसे है रंगोली बिरज मा
तू मेरी हमजोली बिरज मा
तुझसे है रंगोली बिरज मा

सारा रा रा रा रा होली बिरज मा
तुझसे है रंगोली बिरज मा
तू मेरी हमजोली बिरज मा
तुझसे है रंगोली बिरज मा

(संगीत)

होली है..
होली है..

है गुमशुदा मेरे ये पलछिन
सपने तेरे आते हैं रात दिन
आजा रे आ भी जा ये मन तरसे
होली है

प्रेम के सारे मंतर रट के
तेरी खोज में दर-दर भटके
खोल दे राधा पट घूँघट के
सा रा रा

लोग बताएं जमुना तट के
रूप है तेरा सबसे हट के
ज्यों देखे वो रास्ता भटके
सा रा रा

सारा रा रा रा होली बिरज मा
तुझसे है रंगोली बिरज मा
तू मेरी हमजोली बिरज मा
तुझसे है रंगोली बिरज मा

[ad_2]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here