पास बुलाती है कितना रुलाती है Paas Bulati Hai Lyrics in Hindi

[ad_1]

Paas Bulati Hai Lyrics in Hindi

माँ ओ माँ
माँ ओ माँ
माँ ओ माँ
माँ ओ माँ

पास बुलाती है कितना रुलाती है
पास बुलाती है कितना रुलाती है
याद तुम्हारी जब जब मुझको आती है
आती है

पास बुलाती है कितना रुलाती है
पास बुलाती है कितना रुलाती है
याद तुम्हारी जब जब मुझको आती है
आती है

(संगीत)

जिनके सर पे ममता की दुआएं हैं
किस्मत वाले वो हैं जिनकी मांएं हैं
जिनके सर पे ममता की दुआएं हैं
किस्मत वाले वो हैं जिनकी मांएं हैं

जिस्म तो होता है पर जान नहीं होती
उनसे पूछो जिनकी माँ नहीं होती

लोरी सुनाती है छुपके सुलाती है
लोरी सुनाती है छुपके सुलाती है
याद तुम्हारी जब जब मुझको आती है
आती है

(संगीत)

आजा सीने से तुझको लगा लूँ मैं
चीर के दिल को धड़कन में छुपा लूँ मैं
आजा सीने से तुझको लगा लूँ मैं
चीर के दिल को धड़कन में छुपा लूँ मैं

सावन वन बन के मेरी आँखें बरसी हैं
तेरे लिये कितना ये पल पल तरसी हैं

कितना सताती है जां ले जाती है
कितना सताती है जां ले जाती है
याद तुम्हारी जब जब मुझको आती है
आती है

[ad_2]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here